भाजपा में शामिल नहीं हो रहा : सचिन पायलट

Advertisement


जयपुर :
राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान से सचिन पायलट के भाजपा में जाने की अटकलें तेज हो गई थीं लेकिन बुधवार को पायलट ने इन अटकलों पर यह कहते हुए पूर्ण विराम लगाया कि वे भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं। एक न्यूज एजेंसी को दिए गए साक्षात्कार में सचिन पायलट ने कहा कि वे साफ कर देना चाहते हैं उनका भाजपा में शामिल होने का फिलहाल कोई मंसूबा नहीं है। यहाँ तक कि वे भाजपा के किसी नेता से नहीं मिले हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वे करीब 6 महीने से सिंधिया से भी नहीं मिले हैं। हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि अपने लोगों के लिए उनका काम जारी रहेगा। सचिन ने कहा कि राज्य पुलिस ने उन्हें एक नोटिस भेजा है, जिसमें राजद्रोह के आरोप थे। इससे उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुँचा है। सचिन ने साफ किया कि उनकी प्रियंका गाँधी वाडरा से फोन पर बात हुई थी लेकिन कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी से उनकी कोई बात नहीं हुई है। गौरतलब है कि मंगलवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाता सम्मेलन के माध्यम से बताया था कि सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया है। इसके साथ ही विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को क्रमशः पयर्टन मंत्री व खाद्य आपूर्ति मंत्री के पद से तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया था।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से गुस्सा नहीं

सचिन पायलट ने कहा कि वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से गुस्सा नहीं हैं और न हीं उन्हें किसी तरह के पावर की लालसा है। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद से ही चुनावी बादों को पूरा करने के ऊपर उनका फोकस था लेकिन इस ओर सीएम अशोक गहलोत ने कुछ नहीं किया। वे भी उसी रास्ते पर चल दिए, जिस रास्ते पर चलने की वजह से जनता ने वसुंधरा राजे सरकार को सत्ता से वंचित कर दिया था।

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here