Advertisement

कोलकाता : नाइट फ्रैंक इंडिया की नई रिपोर्ट, इंडिया रियल एस्टेट: एच 1 2020 में पता चला है कि शीर्ष 8 शहरों में ऑफिस सेगमेंट में लेन-देन और नए निर्माण दोनों के संदर्भ में ऐतिहासिक गिरावट आई है। 2020 की पहली छमाही में ऑफिस सेगमेंट का लेन-देन 37 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1.6 मिलियन स्क्वॉयर मीटर (17.2 मिलियन स्क्वॉयर फुट) आ गया है। यह पिछले दस साल का न्यूनतम आंकड़ा है। नए निर्माणों में भी पिछले वर्ष की तुलना में 27 प्रतिशत की गिरावट देखी गई और यह 1.6 मिलियन स्क्वॉयर मीटर (17.3 मिलियन स्क्वॉयर फुट) पर आ गया है। लेन-देन और आपूर्ति के कम रहने के बावजूद, आठ शहरों के औसत किराये में 2020 की पहली छमाही में पिछले वर्ष की तुलना में चार प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई और यह 896 रुपये / वर्ग मीटर / महीना (83 रुपये / वर्ग फीट / महीना) तक पहुंच गया।

भारतीय ऑफिस बाजार में सेक्टर आधारित समग्र लेन-देन में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी)  सेक्टर  43 प्रतिशत के साथ अव्वल रहा। दो साल तक मांग स्थिर बने रहने के बाद, 2020 की पहली छमाही के दौरान भारत के शीर्ष आठ शहरों में घर की बिक्री पिछले वर्ष की तुलना में 54 प्रतिशत गिरावट के साथ दशक में सबसे न्‍यनूतम स्‍तर 59,538 इकाई पर आ गई। इसमें से ज्यादातर बिक्री कैलेंडर वर्ष की पहली तिमाही के दौरान हुई। घर की बिक्री का लगभग 47 प्रतिशत हिस्सा 50 लाख रुपये से नीचे वाली आवासीय प्रॉपर्टीज के वर्ग में हुआ। नए घरों के लॉन्च भी इसी अवधि में पिछले वर्ष की तुलना में 46 प्रतिशत की गिरावट दर्ज करते हुए 60,489 इकाईयों तक पहुंच गए। 2020 की दूसरी तिमाही में भी महामारी के कारण उपजी रुकावटों ने अर्थव्यवस्था को तकरीबन ठप किया हुआ है। लॉकडाउन की वजह से रियल एस्टेट उद्योग में सभी गतिविधियां पूरी तरह से बंद पड़ी हैं। पिछले वर्ष की तुलना में इस उद्योग में बिक्री 84 प्रतिशत की गिरावट के साथ 9632 यूनिट्स तक पहुंच गई है।

नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर शिशिर बैजल कहते हैं कि आर्थिक अनिश्चितताओं के इस दौर में हम उम्मीद करते हैं कि ऑफिस का जो क्षेत्र है, वह सतर्क बना रहेगा। निस्संदेह, अधिकांश व्यवसायी मौजूदा बाजार परिदृश्य के मद्देनज़र विस्तार करने में संकोच करेंगे और जमीन को लीज़ पर लेने के अपने फैसलों को फिलहाल टालना पसंद करेंगे। कोविड-19 और सोशल डिस्टेंसिंग, तमाम तरह के प्रतिबंध वाले लॉकडाउन से उपजी परिस्थितियों से निपटने के लिए भविष्य के लिए ऑफिस की जगह पाने के बेस्ट फॉर्मूले की खोज कर रहे हैं। हालांकि जब तक इस महामारी का कोई स्थायी समाधान नहीं ढूंढ निकाला जाता, तब तक ऑफिस के बाजार के लिए इंतजार करने के सिवाय कोई रास्ता नहीं है। आज लॉन्च की गई फ्लैगशिप रिपोर्ट – इंडिया रियल एस्टेट: एच 1 2020, रिपोर्ट का 13 वां संस्करण है। यह जनवरी-जून 2020 (2020 की पहली छमाही) की अवधि के लिए आठ प्रमुख शहरों में आवासीय और ऑफिस बाजार के प्रदर्शन का व्यापक विश्लेषण प्रस्तुत करता है।

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here