महिंद्रा फाइनेंस का ग्राहक आधार हुआ 6.9 मिलियन से अधिक

14 फीसदी की वृद्धि के साथ एयूएम 81,000 करोड़ रुपए के पार
वित्तीय वर्ष 21 की पहली तिमाही में आय में 10 फीसदी की वृद्धि, 2,655 करोड़ रुपए पर
वित्तीय वर्ष 21 की पहली तिमाही में 98 फीसदी की वृद्धि के साथ पीबीटी 208 करोड़ रुपए पर
वित्तीय वर्ष 21 की पहली तिमाही में 129 फीसदी की वृद्धि के साथ पीएटी 156 करोड़ रुपए पर

मुंबई/कोलकाता : ग्रामीण और अर्ध-शहरी बाजारों में वित्तीय सेवाओं की अग्रणी प्रदाता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (महिंद्रा फाइनेंस) के निदेशक मंडल ने 30 जून 2020 को समाप्त हुई तिमाही के लिए गैर लेखा परीक्षित वित्तीय परिणामों की आज घोषणा की।

वित्तीय वर्ष-2021 पहली तिमाही के लिए स्टैंडअलोन परिणाम
30 जून 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान कुल आय 10 फीसदी बढ़कर 2,655 करोड़ रुपए हो गई, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह 2,413 करोड़ रुपए थी। तिमाही के दौरान प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 208 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान तुलनात्मक रूप से यह 105 करोड़ रुपए था, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 98 फीसदी की बढ़ोतरी। 30 जून 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी) 156 करोड़ रुपए पर पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान तुलनात्मक रूप से यह 68 करोड़ रुपए था, 129 फीसदी की बढ़ोतरी।

पीबीटी में 6 करोड़ रुपए का केपिटल गेन शामिल है, जो हमारी सहायक कंपनी महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एमएएमसीपीएल) में निवेश के 7 प्रतिशत हिस्से की बिक्री से संबंधित है। यह मनुलाइफ ऐसट मैनेजमेंट (सिंगापुर) पीटीई लिमिटेड (मनुलाइफ) के साथ 51:49 संयुक्त उद्यम समझौते के एक भाग के रूप में है। वित्तीय वर्ष-2021 पहली तिमाही के लिए समेकित परिणाम

30 जून 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान कुल आय 8 फीसदी बढ़कर 3,069 करोड़ रुपए हो गई, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह 2,838 करोड़ रुपए थी। तिमाही की अवधि के लिए प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 504 करोड़ रुपए रहा, पिछले वर्ष यह रकम थी 160 करोड़ रुपए, 215 प्रतिशत की बढ़ोतरी। 30 जून 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) 432 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले साल यह 108 करोड़ रुपए था, 300 फीसदी की बढ़ोतरी।

पीबीटी में 229 करोड़ रुपए का केपिटल गेन शामिल है, जो इसकी सहायक कंपनियों महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एमएएमसीपीएल) और महिंद्रा ट्रस्टी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एमटीसीपीएल) में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री के बाद 51 प्रतिशत के ब्याज के उचित वैल्यूएशन के आधार पर लाभ और हानि के बयान में मान्यता प्राप्त है। यह स्थिति मनुलाइफ ऐसट मैनेजमेंट (सिंगापुर) पीटीई लिमिटेड (मनुलाइफ) के साथ संयुक्त उद्यम समझौते के अनुरूप है।

कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न होने वाली आकस्मिकताओं को कवर करने के लिए, कंपनी ने हानि नुकसान भत्ते में वृहद-आर्थिक दृष्टिकोण में गिरावट को दर्शाने के लिए स्टैंडअलोन वित्तीय विवरणों में प्रबंधन ओवरले को शामिल किया था और तदनुसार 477 करोड़ रुपए (पूर्व-कर) का अतिरिक्त प्रभार माना था। इसी तरह 30 जून 2020 को समाप्त तिमाही के लिए समेकित वित्तीय विवरणों में 664 करोड़ (पूर्व-कर) शामिल किए गए।

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here