समाजवादी क्रम : डॉ.एस.आनंद

Advertisement
डॉ. एस. आनंद

समाजवादी क्रम
उन्होंने कहा-
न रोजी है, न रोटी है
और न ही श्रम है
मैंने कहा-
अरे पगले! समाजवाद आने का
यही तो क्रम है।
अरे भाई!
जिस दिन रोजी-रोटी
सबको हो जायेगी नसीब
नैतिकता नेताओं के
हो जायेगी करीब
जिस दिन आदमी
मेहनत करने लगेगा
उस दिन लोकतंत्र
बेमौत मरने लगेगा
तू अपनी जिंदगी जी
कम्बल ओढ़ कर घी पी।
-डॉ.एस.आनंद

यह भी पढ़ें : दहेज बनाम दान! : डॉ. एस. आनंद

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here