सीआईडी करेगी भाजपा विधायक के मौत के मामले की जाँच

प्रदेश भाजपा ने की सीबीआई जाँच की माँग, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन
कोलकाता : पश्चिम बंगाल के हेमताबाद विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक देवेंद्र नाथ राय की मौत की खबर सामने आने के बाद से ही बंगाल की राजनीति एक बार फिर गरमा गई है। भाजपा विधायक की मौत को हत्या करार दे रही है और इसका आरोप सत्तारूढ़ दल तृणमूल पर मढ़ रही है। हालांकि तृणमूल की ओर से आरोपों को निराधार करार दिया जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब इस पूरे मामले की जाँच सीआईडी को सौंप दी गयी है। उल्लेखनीय है कि सोमवार की सुबह ही देवेंद्र नाथ राय (59) का शव घर से एक किलोमीटर दूर रायगंज प्रखंड के बिंदौल पंचायत अंतर्गत बलिया मोड़ के समीप से फंदे में झूलता हुआ बरामद किया गया। साल 2016 में देवेंद्र नाथ राय ने सीपीएम की टिकट पर हेमताबाद विधानसभा सुरक्षित सीट पर वाम-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में जीत हासिल की थी। इसके बाद साल 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद वे सीपीएम का दामन छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे।

विधायक देवेंद्र नाथ राय की बहू का भी आरोप है कि उसके ससुर की हत्या की गई है। इससे पहले भी कुछ अपराधी प्रवृति के लोग उन्हें उठाकर ले गए थे लेकिन बाद में देवेन्द्र नाथ को छोड़ दिया था। पर इस बार उनकी हत्या करके शव को लटका दिया गया। मृतक भाजपा विधायक के परिजनों ने इस पूरे मामले में निष्पक्ष जाँच की माँग की है। दूसरी तरफ इस घटना के मद्देनजर भाजपा जिला अध्यक्ष विश्वजीत लाहिड़ी ने आरोप लगाया कि देवेंद्र नाथ की हत्या की गई है। उन्होंने 14 जुलाई को उत्तर दिनाजपुर जिला बंद करने का आह्वान करते हुए पुलिस प्रशासन से 24 घंटा के अंदर पार्टी विधायक की हत्या के अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग की है।

वहीं प्रदेश भाजपा की तरफ से पूरे मामले की सीबीआई जाँच की माँग की गयी है। इस घटना के विरोध में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष के नेतृत्व में राज्य भाजपा मुख्यालय से एक रैली भी निकाली गयी। भाजपा नेताओंं की माँग है कि देवेन्द्र नाथ राय की हत्या के मामले की जाँच सीबीआई द्वारा होनी चाहिये। इस रैली में भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा, महासचिव शायंतन बसु, महासचिव संजय सिंह, उपाध्यक्ष राजू बनर्जी, उपाध्यक्ष व सांसद अर्जुन सिंह, सचिव सव्यसाची दत्त एवं महिला मोर्चा की अध्यक्ष अग्निमित्रा पॉल भी उपस्थित थीं।

भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने उक्त मामले में राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपते हुए निष्पक्ष जाँच की माँग की।

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here