डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘अहसानफरामोश’

डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार
Advertisement

अहसानफरामोश

कितने नासमझ हैं लोग
जो आज के जमाने में भी
उम्मीद करते हैं
अपने अहसानों के प्रतिदान की।
एक जमाना था
जब कुत्ते भी पोस मानते थे
जिसका खाते थे
उसी का गाते थे।
मगर आज का आदमी
खाता है मगर गाता नहीं
बल्कि दलील देता है
वह सतयुग था
आज कलियुग है
और आज जो
धूर्त्त है, मक्कार है
युग उसी का है।
इसीलिए तो आमिर खान को
भारत से डर लगता है
और टर्की से प्यार है!
ये देश के छुपे रुस्तम हैं
और कहते यारों के यार हैं।

● डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार

यह भी पढ़ें : डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘गूंगे और बहरे!’

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here