‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (31)

मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस
Advertisement

गजल संग्रह : हासिल-ए-सहरा नवर्दी

जश्न-ए-गिर्या (रोने का जश्न) मनाती रही रात भर
तीरगी (अन्धेरा) घर सजाती रही रात भर

रेत पर नोक-ए-अंगुश्त (उंगली की नोक) से एक शोख़
नाम लिखकर मिटाती रही रात भर

लज़्ज़त-ए-दर्द भी बढ़ती घटती रही
तिश्नगी (प्यास) आती जाती रही रात भर

देख कर मेरी हालत मिरी कैफ़ियत
बे-बसी मुस्कुराती रही रात भर

इस दवाई का ‘तालिब’ असर ये हुआ
नींद आँखें चुराती रही रात भर

■ मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

यह भी पढ़ें : ‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (30)

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here