नहीं पता था जहाँ ले रहें हैं तलाशी वह परिवार है कोरोना पीड़ित, आइसोलेशन में पुलिस के कर्मचारी!

कोलकाता : गत बुधवार को ही नारकेलडांगा इलाके से राम किशोर केजरीवाल नामक व्यक्ति का शव उनके आवासन की निचली मंजिल से बरामद किया गया था। बताया गया था कि मृतक व उसके परिवार के सदस्य कोरोना पॉजिटिव थे और होम आइसोलेशन में थे लेकिन क्या घटना की जाँच के लिए वहाँ पहुँची पुलिस को इस बारे में नहीं पता था? दरअसल, पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी की मानें तो घटनास्थल पर पहुँची फूलबागान थाने की पुलिस को नहीं बताया गया था कि मृतक कोरोना पॉजिटिव था। वहीं मृतक के फ्लैट की तलाशी के लिए जब पुलिस पहुँची तो आरोप है कि मृतक के घर वालों ने भी नहीं बताया कि वे खुद भी कोरोना संक्रमित हैं। पुलिस तो मृतक ने कोई सुसाइड नोट लिखा है या नहीं, उसका मोबाइल फोन व अन्य मामले की तफ्तीश के लिए उसके घर गयी थी।

हालांकि जब बाद में पुलिस को पता चला कि मृतक व उसके परिजन कोरोना संक्रमित हैं तो वहाँ गये पुलिसकमिर्यों ने खुद को सेनिटाइज किया। सूत्रों का यह भी कहना है कि थाने में ही उक्त पुलिस कर्मियों को आइसोलेशन में रहने के लिए कहा गया है। उल्लेखनीय है कि बुधवार को आवासन की निचली मंजिल से राम किशोर केजरीवाल का शव बरामद किया गया था। प्राथमिक जाँच से अनुमान लगाया गया था कि राम किशोर ने आवासन से कूदकर आत्महत्या की है। वहीं पारिवारिक सूत्रों से पता चला था कि केजरीवाल पिछले कुछ महीनों से मानसिक तनाव से गुजर रहे थे। यह भी पता चला कि उन्होंने 2 करोड़ का एक फ्लैट बुक किया था। उन्होंने पूरे रुपये भी दे दिये थे लेकिन किसी कारण से लैंडलॉर्ड से फ्लैट उन्हें नहीं मिला था। बताया गया है कि इस कारण भी वे चिंता में थे।

यह भी पढ़ें : Kolkata : कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करेंगी CM

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here