‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (33)

मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

गजल संग्रह : हासिल-ए-सहरा नवर्दी

बन के क़तरा रहा सदा मुझ में
इक समुन्दर जो था छुपा मुझ में

थरथराने लगा हूँ झील सा मैं
आ के पत्थर अभी गिरा मुझ में

ख़ाक-ए-अरमाँ न यूँ उड़ा मेरी
कोई सहरा न तू जगा मुझ में

अंजुम (तारा)-ओ-माह(चाँद)-ओ-कहकशाँ (आकाशगंगा) उभरे
एक सूरज अगर बुझा मुझ में

मुस्कुराने तलक नहीं देता
है जो पोशीदा (छुपा हुआ) तजरबा मुझ में

बुझ चका है चिराग़-ए-जाँ फिर भी
ढूँढती अब है क्या हवा मुझ में

आते जाते वो ले गया ‘तालिब’
जो बची थी मिरी अना (अहं) मुझ में

■ मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

यह भी पढ़ें : ‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (32)

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here