‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (47)

मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस
Advertisement

गजल संग्रह : हासिल-ए-सहरा नवर्दी

हायात-ओ-कायनात-ओ-जिस्म-ओ-जाँ-निसार करे
तुम्हारी तर् ह मुझे कौन इतना प्यार करे

ये सोचकर मैं मिला उससे बे-वफ़ा की तरह
कहीं वफ़ा न मिरी उसको शर्मसार करे

बस इक ख़्याल से उस राह पर क़दम न उठा
कहीं क़दम न मिरा उस को दाग़दार करे

है कोई नफ़्स (जान) कहाँ इन्तिज़ार से ख़ाली
जो आ चुका है वो जाने का इन्तिज़ार करे

किसी के हाथ में पत्थर कोई है शीशा बकफ़ (हाथ में)
यहाँ पे कौन भला किस को होशियार करे

हमारा तर्ज़-ए-तकल्लुम (बात करने का तरीक़ा) ही एक दिन शायद
ग़ज़ल के शह् र में ‘तालिब’ को पुर-वक़ार (इज़्ज़त वाला) करे

■ मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

यह भी पढ़ें : ‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (46)

हमारे Facebook Page को Like और Follow कर हमारे साथ जुड़ें

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here