‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (12)

मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

गजल संग्रह : हासिल-ए-सहरा नवर्दी

गर मैं तूफ़ाँ से डर गया होता
पार कैसे उतर गया होता

उसका नक्श-ए-क़दम (पद-चिन्ह) अगर मिलता
मंज़िलों से गुज़र गया होता

कू-ब-कू (गली-गली) यूँ न फिर भटकता मैं
वो जिधर था उधर गया होता

आईना आप अगर उसे देते
उसका चेहरा उतर गया होता

ख़ैर से गाँव में वो ज़िन्दा है
शह् र आता तो मर गया होता

आईना देख कर दिल-ए-‘तालिब’
किरचियों (टुकड़ों) में बिखर गया होता

– मुरलीधर शर्मा ‘तालिब’, संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध), कोलकाता पुलिस

यह भी पढ़ें : ‘ख़ाकी’ की कलम से ‘गज़ल’ की गली (11)

Advertisement
     

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here