नयी Aawaz Exclusive : लोगों की समस्याओं का समाधान कर मिलती है संतुष्टि : Sandipan Saha

संदीपन साहा, को-ऑर्डिनेटर, वार्ड नंबर 52

कोरोना के साथ ही डेंगू व मलेरिया से भी सचेत रहना जरूरी

कोलकाता : कोलकाता नगर निगम (KMC) के 52 नंबर वार्ड के पार्षद (वर्तमान समय में को-ऑर्डिनेटर) व केएमसी के आईटी एडवाइजर संदीपन साहा (Sandipan Saha) ने नयी Aawaz के प्रतिनिधि राजेश कुमार ठाकुर से हाल ही में पूरे हुए अपने 5 साल के पार्षद कार्यकाल के अनुभव साझा किए। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना काल के अनुभव को भी साझा किया। पेश है उनसे बातचीत के प्रमुख अंश…

जनप्रतिनिधि बनना एक बड़ी जिम्मेवारी

संदीपन साहा ने कहा कि जनप्रतिनिधि बनना एक बहुत बड़ी जिम्मेवारी होती है। साल 2015 में जब उन्हें 52 नंबर वार्ड का पार्षद बनने के अवसर मिला तो उन्होंने जन सेवा के भाव से उसे स्वीकार किया। बीते 5 सालों में उन्होंने वार्ड के लोगों के बीच जाकर जमीनी स्तर पर काम किए। उन्होंने कहा कि लोगों के काम आकर, उनकी समस्याओं का समाधान कर जो संतुष्टि मिलती है उसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। किसी की समस्या का समाधान होने के बाद जब किसी के चेहरे पर खुशी दिखती है तो एक जनप्रतिनिधि के रूप में सफल होने का अहसास होता है।

लॉकडाउन में भी जन सेवा का अवसर मिला

उन्होंने कहा कि कोविड-19 (Covid-19) की वजह से जब देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई तब इस नये वायरस की ज्यादा जानकारी नहीं थी। बस यह पता था कि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कर इससे बचा जा सकता है लेकिन इस समय ने एक बड़ी आबादी पर नकारात्मक प्रभाव डाला। लोगों पर रोजगार के साथ ही आर्थिक तंगी का संकट भी मंडराने लगा। ऐसे समय में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने लोगों को ध्यान में रखते हुए फ्री राशन उपलब्ध करवाने की घोषणा की। जिसका अनुसरण करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जरूरतमंदों तक फ्री राशन उपलब्ध करवाने का उन्हें भी अवसर मिला। संदीपन साहा ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप से हर कोई डरा हुआ है क्योंकि यह वायरस अज्ञात है और खतरनाक भी। लेकिन एक जनप्रतिनिधि होने के नाते संकट के इस समय में उन्होंने जन सेवा के प्रति स्वयं को समर्पित रखा और लोगों की समस्या का समाधान करने की हर सम्भव कोशिश की, जो अभी भी जारी है।

सैनिटाइजेशन का भी रखा ख्याल

संदीपन साहा ने कहा कि लोगों तक निःशुल्क राशन उपलब्ध करवाना जरूरी था लेकिन उसके साथ ही उन्हें इस वायरस के संक्रमण के खतरे से भी मुक्त रखना था। कोलकाता नगर निगम की ओर से सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की गई थी, जिसका वार्ड नंबर 52 में भी नियमित रूप से इस्तेमाल किया गया। इसके साथ ही वार्ड में किसी कोविड पीड़ित मरीज की जानकारी मिलने पर उनके इलाज के लिए तत्काल हर संभव मदद उपलब्ध करवाने की भी कोशिश की गई और यह पहल अभी भी जारी है।

काम से तय होता है चुनावी नतीजा

वार्ड नंबर 52 के को-ऑर्डिनेटर संदीपन साहा ने कहा कि केएमसी के वर्तमान बोर्ड का कार्यकाल पूर्ण है और परिस्थितियों के सामान्य होने पर चुनाव भी होंगे लेकिन वे इसको लेकर नहीं सोच रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक जनप्रतिनिधि का फैसला उसके काम के ऊपर होता है। किसी जनप्रतिनिधि ने अपने पिछले 5 साल किस तरह से बिताए हैं और लोगों के बीच उनकी कैसी छवि है उसी का परिणाम चुनाव के नतीजों में आता है। उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि उन्होंने पार्षद बनने के बाद से लेकर अभी तक केवल काम पर ही अपना ध्यान रखा है और जो काम करते हैं उनके लिए चुनाव का परिणाम कभी भी चिंता का विषय नहीं होता है।

कोरोना से जीत निश्चित

उन्होंने कहा कि सरकार की गाइडलाइंस का पालन करते हुए हम सभी को अपने बचाव के लिए मास्क, सैनिटाइजर व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए। हम सभी को कोरोना के खिलाफ मिलकर लड़ाई लड़नी है। वे इस बात को लेकर निश्चिंत हैं कि यदि साथ होकर लड़े तो कोरोना से हमारी जीत निश्चित है।

वार्ड के लोगों का काली पूजा से खास लगाव

उन्होंने कहा कि वार्ड नंबर 52 में हर साल आयोजित होने वाले बेहद चर्चित काली पूजा को लेकर लोगों का लगाव है। कोविड-19 के देखते हुए इस साल पूजा को पिछले सालों की तरह बड़े पैमाने पर करना सम्भव तो नहीं लगता लेकिन अभी समय है। काली पूजा तो होगा ही लेकिन पूजा के समय की परिस्थितियों के अनुसार ही उसका आयोजन किया जाएगा।

डेंगू व मलेरिया को लेकर भी जागरुकता जरूरी

संदीपन साहा ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार जरूर हो रहा और उससे बचने की भी जरूरत है लेकिन उसके साथ ही महानगर के लोगों को डेंगू और मलेरिया जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव को लेकर भी सजग रहने की जरूरत है। उन्होंने वार्ड के लोगों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग सप्ताह में केवल 1 दिन अपना 10 मिनट समय निकालकर अपने आस-पास निरीक्षण कर लें। इससे कहीं भी जल जमाव की समस्या का सामाधान हो सकेगा और डेंगू व मलेरिया जैसी बीमारियों को पनपने से रोका जा सकेगा। उन्होंने कहा कि केएमसी की ओर से डेंगू व मलेरिया के प्रसार को रोकने के लिए हर साल की तरह इस साल भी कदम उठाए जा रहे हैं लेकिन सभी के समुचित सहयोग से यह काम आसान हो जाएगा।

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here