डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘कुत्ते की दुम’

डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार
Advertisement

व्यंग्य कविता

कुत्ते की दुम

तुम्हारे शब्द
तुम्हारे व्यंग्य
तुम्हारा लेखन
नहीं ला सकता है
इनमें रंचमात्र भी परिवर्तन!
नहीं सुना है आपने?
कुत्ते की दुम सीधी नहीं होती
चाहे उस पर ‘हिमताज’ लगाओ
या ‘महाभृंगराज!’
ये नहीं छोड़ सकते अपनी आदत
और न ही बदल सकते
अपना समाज!
मुझे दुख है मेरे दोस्त!
तुम्हारा श्रम व्यर्थ चला गया
तुम्हारा लेखन खुद ही छला गया।

 डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार

यह भी पढ़ें : डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘आदमी की सूरत’

Advertisement
     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here