डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘ देश का नेता बन जाऊंगा!’

डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार
Advertisement

देश का नेता बन जाऊंगा!

घर में घुसते ही पत्नी ने डांटा
लगा मुझे कि मार देगी जोरदार चांटा
तुनक कर बोली
हो गई आनलाइन शापिंग
अरे कलमुंहे!
लग गया न हजार रुपए का घाटा।
बातों में तो लाल सुर्ख लगता है
मुझे तू परले दर्जे का मूर्ख लगता है
कमाई एक पैसा की नहीं
मगर खाने को चाहिए दूध-दही।
पता नहीं, मेरी किस्मत क्यों रूठ गयी?
कच्ची गगरी जैसी फूट गयी
लेकिन अब मैं नहीं सह सकती
एक मिनट भी तुम्हारे साथ नहीं रह सकती।
मैंने कहा-चिन्ता छोड़ो
मुझसे नाता मत तोड़ो
कल से मैं भी दस-बीस को
उल्टा-पुल्टा पढ़ाऊंगा
देश का बड़ा नेता बन जाऊंगा।

● डॉ. एस. आनंद, वरिष्ठ साहित्यकार, कथाकार, पत्रकार, व्यंग्यकार

यह भी पढ़ें : डॉ. एस. आनंद की कलम से व्यंग्य कविता ‘सच बनाम झूठ’

Advertisement
     

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here